Uncategorized

पीएम सुरक्षा चूक को सीएम शिवराज सिंह चौहान ने साजिश बताया, सोनिया गांधी से पूछे सवाल

पीएम सुरक्षा चूक को सीएम शिवराज सिंह चौहान ने साजिश बताया, सोनिया गांधी से पूछे सवाल

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पंजाब में सुरक्षा में चूक को साजिश करार दिया है। उन्होंने कहा कि पीएम की सुरक्षा में चूक नहीं हो सकती जब तक चूक नहीं की जाए। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से सात दिन में इस मामले को लेकर कई सवाल किए हैं। साजिश के तार कांग्रेस आलाकमान तक पहुंचते हैं।

शिवराज सिंह चौहान ने आज मीडिया से चर्चा में यह आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि जब कांग्रेस की केंद्र में सरकार थी तब वे भी तत्कालीन पीएम के दौरे में पूरी तरह साथ रहते थे। मगर आज यह सामने आ गया है कि पीएम मोदी की सुरक्षा में चूक कोई अचानक घटना नहीं बल्कि कांग्रेस की सोची-समझी साजिश थी। उन्होंने कहा कि टीवी चैनल ने स्टिंग ऑपरेशन में जो खुलासा कर दिया है। उससे स्पष्ट हो गया है कि यह कोई संयोग नहीं था। वह साजिश और षड़यंत्र था। अचानक हुई घटना नहीं थी। वह प्रायोजित था। कुदरती घटना नहीं बल्कि कांस्परेसी थी।

मोदी से कांग्रेस की नफरत आदत बनी
सीएम ने आरोप लगाया कि मोदी से नफरत में कांग्रेस की आदत बन चुकी है। मोदी से घृणा करते करते देश, सेना, संविधान का अपमान करती है। उन्होंने कहा कि स्टिंग ऑपरेशन में थाने के एसएचओ, डीएसपी सीआईडी बता रहे हैं कि पीएम के रूट पर होने वाली रुकावट की पहले से जानकारी थी। एसएचओ व डीएसपी की सूचना का अधिकारियों ने नजरअंदाज किया। यह सब सिद्ध करता है कि सुरक्षा में चूक लापरवाही नहीं बल्कि मिलीभगत थी। सीएम ने कहा कि इस घटना के बाद भी पंजाब सरकार ने मात्र 183 की धारा की एफआईआर दर्ज की है जिसमें जुर्माना केवल 200 रुपए ही है।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया से पूछे सवाल
चौहान ने कहा कि जब पीएम के काफिले के साथ घटना हुई तो उसके बाद कांग्रेस नेताओं ने बेहूदे बयान दिए। हरीश रावत कहते हैं कि बम तो नहीं फूटा तो छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री कहते हैं कि भूपेश बघेल कहते हैं कि नोटंकी थी। पीएम सुरक्षा में चूक की साजिश सामने आने के बाद चौहान ने कहा कि अब कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को जवाब देना पड़ेगा।

सीएम चौहान के सोनिया गांधी से सवाल

  1. पीएम के साथ सीएस-डीजीपी क्यों नहीं थे।
  2. सीएम चरणजीत सिंह चन्नी कहते हैं कि किसी अधिकारी को कोरोना हो गया था तो उनके इस बयान के बाद बिना मास्क के अधिकारी प्रेस कांफ्रेंस कैसे ले रहे थे।
  3. पीएम काफिले के साथ खाली डीजीपी-सीएस की गा़ड़ी चलती है तो वह क्यों नहीं थी।
  4. पीएम के रूट की जानकारी प्रदर्शनकारियों को कैसे लगी।
  5. पीएम तो दूर अन्य वीआईपी के रूट की जानकारी ली जाती है कि रूट क्लीयर है या नहीं, पूछा जाता है। मगर इस तरह की जानकारी क्यों नहीं ली गई।
  6. पीएम दौरे का अलर्ट जारी होने के बाद अधिकारियों ने कोई गंभीरता नहीं दिखाई।
  7. पाकिस्तान की सीमा से लगा क्षेत्र था औऱ ऐसे में कोई घटना हो जाती तो कौन जिम्मेदार था।
91 Views