Latest news
*गर्मी से जल्द राहत के आसार कम, शहर में जून अंत तक दस्तक दे सकता है मानसून* भाेपाल.शहरवासियाें काे गर्मी से जल्द राहत मिलने के आसार कम हैं। वजह यह है कि शहर में मानसून जून के अंतिम सप्ताह में ही पहुंच सकता है। माैसम विभाग ने इसके 6 जून तक केरल पहुंचने का अनुमान जाहिर किया है। माैसम वैज्ञानिकों का कहना है कि आम ताैर पर केरल में दस्तक देने के 15 दिन बाद यह मप्र पहुंचता है। इसके दाे दिन बाद यह भाेपाल पहुंचता है। पिछले आठ साल का ट्रेंड भी यही है। इस दाैरान यह सिर्फ एक बार तय समय पर और एक बार उससे पहले पहुंच सका है। इधर, गुरुवार काे भी पारा लुढ़कने बावजूद 40 डिग्री पार ही रहा। दिन का तापमान 40.3 डिग्री दर्ज किया गया। बुधवार की तुलना में इसमें 1.6 डिग्री की गिरावट हुई। इसके बावजूद दिन में तपिश ज्यादा थी। बादलाें के छंटने से तीखी धूप चटकी। रात का तापमान 26.3 डिग्री दर्ज किया गया। 24 घंटे में इसमें 0.5 डिग्री का इजाफा हुआ। आगे क्या : मौसम विशेषज्ञ शैलेंद्र कुमार नायक का कहना है कि अंडमान सागर निकोबार के दक्षिणी हिस्से से सटे द्वीप समूह पर मानसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां अनुकूल हाेती जा रही हैं।
Uncategorized

पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह की पत्नी का चुरहट में होगा अंतिम संस्कार*

*पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह की पत्नी का चुरहट में होगा अंतिम संस्कार*
भोपाल. मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री रहे कांग्रेस के दिवंगत नेता अर्जुन सिंह की पत्नी सरोज सिंह का 84 साल की उम्र में बुधवार को दिल्ली में निधन हो गया। वे कई दिनों से बीमार थीं। उनके बेटे और कांग्रेस नेता अजय सिंह ने यह जानकारी दी। सरोज सिंह का अंतिम संस्कार मध्यप्रदेश स्थित उनके गृह नगर चुरहट में किया जाएगा।
*सोते वक्त आया अटैक*
न्यूज एजेंसी के मुताबिक, सरोज सिंह को रात में सोते समय हार्ट अटैक आया। सुबह जब डॉक्टरों ने चेक किया तो वे मृत मिलीं। उनके निधन की सूचना मिलने के बाद अजय सिंह दिल्ली रवाना हो गए। सरोज सिंह दो साल से बेटी वीणा के साथ नोएडा में रहती थीं।
*2011 में अर्जुन सिंह का निधन हुआ था*
अर्जुन सिंह तीन बार मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री, केंद्र में मंत्री और पंजाब के राज्यपाल रहे। 4 मार्च 2011 को दिल्ली में उनका निधन हुआ था। अर्जुन सिंह और सरोज सिंह के दो बेटे अभिमन्यु, अजय और एक बेटी वीणा सिंह हैं। अभिमन्यु बिजनेसमैन हैं, जबकि अजय मध्यप्रदेश के पूर्व नेता प्रतिपक्ष रहे हैं। वीणा भी सीधी से निर्दलीय लोकसभा चुनाव लड़ चुकी हैं।